29.8.09

चिठ्ठी चर्चा : ये चिठ्ठी शानदार तो नहीं है पर सबको साथ लेकर चलने वाली है .

आज रविवार का दिन है सभी लोग भगवान श्रीगणेश जी के पूजन अर्चन में व्यस्त है . हिंदी ब्लॉग जगत में विगत सप्ताह गणपति बब्बा की खूब धूम रही . ब्लॉगर भाई बहिनों की गणपति बब्बा के सन्दर्भ में एक से बढ़कर खूब पोस्टे पढ़ने को मिली. आज कुछ अच्छे चिठ्ठे पढ़ने का अवसर मिला जिनका जिक्र इस चिठ्ठी चर्चा में कर रहा हूँ . चिठ्ठी लिखने के पूर्व एक चुटका आपकी नजर है ....

एक पाठक ने ब्लॉगर भी को फोन कर कहा - दाऊ आपकी रचना तो गजब की रही और आपकी यह रचना मेरे घर वालो को काफी पसंद आई है खासकर आपकी भाभी को तो खूब पसंद आई है . सभी ने आपको बधाई कहने को कहा है . आपको मेरी और से मेरे घर वालो की और से आपको फिरसे ढेर सारी बधाइयाँ . उत्तर में ब्लॉगर दाऊ ने पाठक से कहा - भाई मै आप सभी का आभारी हूँ और मेरी तरफ से दादाजी दादीजी बड़े भैय्या और आपकी बहिनजी को नमस्ते कहना और मेरी तरफ से भाभीजी को चरण स्पर्श करना .....

और चंदा मामा दूर के ही रह गए !!बुरा भला में शिवम् मिश्रा....दिल के अरमान आसुंओ में रह गए.

सावधान! आप कार खरीदने तो नहीं जा रहे गर जा रहे हैं तो इसे पढ़ते जाइए....मेरे सपने मेरे अपने में नीतिश राज.....फर्जीवाडा से सावधान कर रहे है ......

टिम फ्लेनेरी की पुस्तक - "द वेदर मेकर्स" अच्छी किताब है पर्यावरण में हो रहे बदलावों को समझने जानने के लिये. तीन सौ पेजों की इस किताब का हिन्दी में अनुवाद या विवरण उपलब्ध है या नहीं, मैं नहीं जानता...
जलवायु परिवर्तन - कहां कितना ? मानसिक हलचल में ज्ञानजी की कलम से.

आशीष खण्डेलवाल....द्वारा हिंदी ब्लॉग टिप्स में "पिछली 25 पोस्ट एक साथ दिखाने वाला विजेट" दिलचस्प विजेट...

हिंदी चिट्ठाकारों का आर्थिक सर्वेक्षण में अपना सहयोग ......प्राइमरी का मास्टर प्रवीण त्रिवेदी.

भारती के चित्र पे लहू की धारियां
उपवन की जिनपे थी जिम्मेवारियां.
वही लिये फिरते हैं अब आरियां.
देश में बढ़ी यें कैसी दुश्वारियां----

द्वारा कवि योगेन्द्र मौदगिल.

तीसरा खंबा में "पिताजी मकान से निकालना चाहते हैं,मैं क्या करूँ ?"दिनेशराय द्विवेदी समाधान बता रहे है .....

भगवान गणेश को गज़नी बना डाला तो भी लोग खामोश है फ़िर भी कुछ लोग हिंदुओं को कट्टरवादी कहने से नही चुकते....अनिल पुसादकर "अमीर धरती गरीब लोग" में.

भूल गए फिराक को दीक्षा में आनंद राय

चारणी माता मंदिर
जोधपुर के आसपास सुरम्य प्रकृति के मनमोहक नजारों के अलावा धार्मिक आस्था एवं श्रद्दा के केंद्र ऐसे देवालय हैं जहाँ भक्त अपनी मनोकामना पूर्ण करने आते हैं और साधक अपनी साधना को सफल बनाते हैं.ऐसे ही एक मंदिर में वैष्णव देवी की तरह ही एक गुफा में विराजमान...आहा ग्राम्य जीवन भी क्या है में विपिन बिहारी गोयल जानकारी प्रदान कर रहे है.

अगले जनम मैं मुझे बिटिया देना (भाग १)...मेरे ब्लॉग में विनय भाई.

कविवर विजेन्द्र की ताज़ा कविताएँ.....सबद-लोक में सुशील कुमार.

राखी सावंत ने विजेता पगड़ी पेश की हास्यकवि अलबेला खत्री को सोनी टी,वी. के "हँसेगा इंडिया" में, बधाई देते राजू श्रीवास्तव और पाकिस्तानी सुलतान .....अलबेला खत्री

जानिब-ए-काबा चलो या सू-ए-मयखाना चलो....किस से कहें ...मीत

बंगाल में मुद्दा बने महापुरुष ......पुरवाई..प्रभाकर मणि तिवारी.

खबर के नाम पर धंधा करने वालों....बुद्धा.

नच रे गुजरिया, बजी बसुरिया,
हम तोहे से प्रेम करे ।
ओ मेरी मुनिया, वही है गुनिया,
जो तोहे पे नैन धरे ।।
गीत.... प्राची व उसके पार... दर्पण साह "दर्शन".

विवेक सिंह द्वारा स्वप्नलोक - जरूरी है सड़क पर आना....एक आदमी को सड़क के किनारे मल-त्याग करने की आदत थी..... आगे देखिये होता है क्या ?

ह्दय रोग : प्याज का रस और चने की दाल ह्दय.....होम्योपैथी चिकित्सा... पर अकबरंवल.

देखिये इस पप्पू ने अपना परिचय बदल दिया...प्रभात गोपाल.

सरे महशर यही पूछूंगा खुदा से पहले तूने.... एवरग्रीन ... पर अली.

धरोहर... पर.... "युनुस"..... ये है ब्लौगिंग मेरी जाँ....मै तुझपे कुर्बान ...

!! लाल और बवाल --- जुगलबन्दी !! सबब.....भाई बवाल.


******

30 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया मिश्र जी |
    मेरे उल्लेख के लिए बहुत बहुत आभार |

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया मिश्र जी |
    मेरे उल्लेख के लिए bhi बहुत बहुत आभार |

    :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर चर्चा,अब तो लोग इस इंतजार करने लगे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस अच्छी चर्चा के लिए धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत शानदार...जानदार और इमानदार चर्चा...और हां महेन्द्र भाई..नया कलेवर भी पसंद आया...

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह मिश्र जी वाह.... चर्चा जानदार रही... वाह..

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेहतरीन प्रस्तुति के लिए बधाई स्वीकार करें।

    उत्तर देंहटाएं
  8. .
    .
    .
    बेहतरीन चर्चा मिश्र जी,
    गागर में सागर समेट डाला आपने...
    साधुवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत बढिया रचना जी.

    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत बढ़िया प्रस्तुति :)

    उत्तर देंहटाएं
  11. कितना अच्छा है सब साथ साथ हों !

    उत्तर देंहटाएं
  12. शानदार चिट्ठी चर्चा.. हैपी ब्लॉगिंग

    उत्तर देंहटाएं
  13. चर्चा मे काफ़ी मेहनत करते हैं आप इसमे ज़रा भी शक़ नही।सबको साथ लेकर चलना ये भी अपने आप मे एक कठीन काम है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत बढ़िया चर्चा रही पंडितजी। ये पेज ज़्यादा बेहतर मालूम हो रहा है। पढ़ने में आँखों पर ज़ोर भी नहीं पड़ रहा है। आपका यह यज्ञ सदैव इसी तरह चलता रहे इसी कामना के साथ।

    उत्तर देंहटाएं
  15. बेहतरीन !
    पढ़ कर आनन्द आया.........
    धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  16. बेहतरीन !
    अच्छी चर्चा के लिए धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  17. सभी को एक स्थान पर समेटने का यह प्रयास अच्छा है बधाई । -शरद कोकास

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत खूब, महेंद्र मिश्र जी, अच्छी चर्चा और धन्यवाद आपका जो आपने मेरी फर्जीवाडे से सावधान की कोशिशों को आगे बढ़ाया, धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  19. अच्छा लेखा जोखा देते हो आप !!

    उत्तर देंहटाएं
  20. चलिए आपने काम आशन कर दिया | अच्छी रचना खोजने मैं कम समय लगेगा |

    धन्यवाद |

    उत्तर देंहटाएं

आपका ब्लॉग समयचक्र में हार्दिक स्वागत है आपकी अभिव्यक्ति से मेरा मनोबल बढ़ता है .